MP GK PDF 2020 Notes in Hindi and English

MP GK PDF 2019 - 2020 Notes in Hindi and English

MP GK PDF 2020 Notes in Hindi and English

This Free PDF Notes Contains MP GK PDF 2019-2020 Notes in Hindi and English, madhya pradesh samanya gyan For Upcoming Exams. You can easily download PDF on madhya pradesh gk by mahaveer publication, mp map, mp gk 2019 PDF Book in hindi, from this website. MP GK questions online test, mp general knowledge by punekar publication is very important to crack any competitive exam in India. प्रिय पाठकों आज Examtrix (examtricks) की टीम प्रतियोगी छात्रों के लिये MP GK PDF 2019-2020 Notes in Hindi and English नोट्स शेयर कर रही है. ये Best madhya pradesh general knowledge, punekar mp gk book pdf free download की Book सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बेहद उपयोगी हैंFree General Science General Knowledge Questions Answers PDF Download


Hello Dear Examtrix.com (Exam Tricks) followers, In this post we are going to share an important PDF on MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English, mp police gk  2019 pdf book in hindi, mp gk objective question answer in hindi pdf, mahaveer mp gk pdf download, which is very useful for each and every competitive exam in India. At this platform we share mp gk current affairs 2020 Handwritten notes pdf in Hindi-English and mp ka gk Free Pdf Study material for Competitive exams.


Today, we are sharing SSC CGL free notes, free upsc ias material. This Free PDF Notes (MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English, MP GK by mahaveer publication, mahaveer mp gk pdf download)  is important for various exams like UPSC, IAS, RAS, UPPSC, MPPSC, BPSC, SSC CGL, CHSL, CPO, IBPS PO, SBI PO, Railway, RRB NTPC, ASM, Group D, State PSC, Sub inspector, Patwari exam, LDC Exam, Revenue office Exams.


MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English Topics


  • Download Madhya Pradesh GK Notes In English & Hindi In Pdf. Download All Study Material and Notes Of All Examination Of Madhya Pradesh Here.
  • MPPSC New Syllabus and Exam Pattern 2020 in Hindi and English PDF MP Current Affairs 2019 – 2020 की PDF बहुत जल्द हम अपनी बेबसाइट पर उपलब्ध Hogi. Current Affairs Notes PDF For MPPSC 2019-2020 in Hindi.
  • MP GK in Hindi PDF | मध्य प्रदेश सामान्य ज्ञान, निर्माण IAS का PDF Notes IAS, UPSC तथा MPPSC की तैयारी करने Ke Liye Important.
  • Hello friends ,यहाँ पर आपके लिए Madhya Pradesh से सम्बन्धित GK Quiz, Notes तथा निःशुल्क PDF Book आदि सभी प्रकार के Study Material उपलब्ध है जिसे आप नीचे दिए हुए Link से Download कर सकते है | आपको Quiz, Notes तथा निःशुल्क PDF Book दोनों भाषा अंग्रेजी तथा हिंदी में उपलब्ध |
  • यहाँ पर मध्यप्रदेश करंट अफेयर्स और मध्यप्रदेश से सम्बन्धित सामान्य ज्ञान आपको नियमित समय के साथ साथ मिलता रहेगा | Madhya Pradesh करंट अफेयर्स और हरियाणा से सम्बन्धित सामान्य ज्ञान भी दोनों भाषा अंग्रेजी तथा हिंदी में उपलब्ध है इसे आप Link द्वारा Download भी कर सकते है | मध्यप्रदेश से सम्बंधित ये सभी प्रश्न किसी भी आगामी मध्यप्रदेश सरकार में नौकरी के लिए होने वाले चयन प्रक्रिया जैसे की MPPSC (Madhya Pradesh Public Service Commission) 2019-20 , JSSC ,etc…के लिए बहुत उपयोगी होगा |

Details about MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English


Free General Knowledge Questions Answers PDF Book Download
1. दोस्तों आज के इस के दौर में competitive exams की तैयारी दिन प्रतिदिन काफी कठिन होते जा रही है. SSC and Railway की vacancy की अधिकारिक घोषणा अभी कुछ ही दिन पहले हुई है. जो उम्मीदवार SSC and Railway की तैयारी कर रहे है उनके लिये MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English का Revision करना बेहतर रणनीति साबित होगा.
2. From our website exam tricks, examtricks, examtrick, exam trick, you can download free pdf notes and tons of study material for competitive exams in India.
3. आपको इस MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English Download में आपको वो सारी महत्वपूर्ण जानकारी मिलेगी जो की आने वाले Sarkari Exam के लिये बहुत लाभदायक होगा. आपको इस मध्यप्रदेश सामान्य ज्ञान PDF Book में MP GK से सम्बंधित वैसे प्रश्न, उत्तर सहित पढने को मिलेंगे जो की प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जा चुके है या फिर Exam की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है. जो PDF Notes हम share कर रहे है उस बुक का नाम MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English है. आप सब छात्र जो प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी कर रहे है या अभी शुरू किये है, उन तमाम छात्रों को MP GK Book PDF अवश्य पढना चाहिये.


Details about मध्यप्रदेश सामान्य ज्ञान PDF


CreditThis PDF is prepared by examtrix.com and Nitin Gupta Team.
PDF SizeUnknown Mb
No of pages in this PDFUnknown
PDF NameMP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English
PDF QualityGood

Click below to Download PDF


As we already mentioned above, this free pdf notes is related to MP GK PDF Notes 2019-2020 in Hindi and English

MP GK PDF in Hindi

MP GK PDF in English

Madhya Pradesh General Knowledge Notes PDF in English for MPPSC By Rudra IAS

MP Current Affairs GK PDF 2019-2020

Download Subject wise Free Pdf Notes in Hindi and English

Download Free Study Material For each and every competitive exam. Subject wise Links for  Handwritten Class Notes in Hindi and English

History Notes –  Click Geography Notes – Click
Indian Polity Notes – Click Economics Notes – Click
General Science Notes – Click Current Affairs Notes – Click
Maths Notes – Click Reasoning Notes – Click
English Grammar Notes – Click General Hindi Notes – Click
Science and Tech Notes – Click Art and Culture Notes – Click
Psychology Notes – Click Environment and Ecology – Click
Sanskrit Notes- Click Ethics Notes – Click
Computer Awareness – Click Banking Awareness Notes – Click
International Relations – Click Important Questions PDF – Click
General Knowledge PDF – Click  

Disclaimer: Examtrix.com neither created this file nor scanned, We downloaded this file from internet and linked with this blog or we shared the link which is already available on Internet. We don’t want to violate any copyright law.  If anyone has any objection then kindly mail at examtrix@gmail.com to request removal of the link.

Please Support us By Following our Social Media Channels

प्राचीन भारत(रामशरण शर्मा) अध्याय-9 बुद्धकाल में राज्य और वर्ण-समाज

प्रश्न 1:- छठी सदी ईसा-पूर्व के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. यह उत्तरी काला पॉलिशदार मृद्भांड का आरंभ काल है।
  2. यह भारत का द्वितीय नगरीकरण काल कहलाता है।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?
    A) केवल 1
    B) केवल 2
    C) 1 और 2 दोनों
    D) न तो 1 और न ही 2

उत्तरः (c)
व्याख्याः उपर्युक्त दोनों कथन सत्य हैं।

पुरातत्त्व के अनुसार छठी सदी ईसा-पूर्व में उत्तरी काला पॉलिशदार मृद्भांड अवस्था का आरम्भ काल है। इसकी बनावट उत्कृष्ट कोटि की थी तथा यह बहुत चिकना और चमकीला होता था।

इस समय में ही गंगा के मैदानों में नगरीकरण की शुरुआत हुई। यह भारत का द्वितीय नगरीकरण कहलाता है।

प्रश्न 2:- छठी सदी ईसा-पूर्व में व्यापार के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. इस काल में वाणिकों ने श्रेणियों का निर्माण आरम्भ कर दिया था।
  2. वाराणसी मुख्य व्यापारिक केंद्र था।
  3. इस काल में धातु के सिक्कों का प्रचलन आरंभ हो गया था।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?
    A) केवल 1 और 2
    B) केवल 2
    C) केवल 2 और 3
    D) 1, 2 और 3

उत्तरः (d)
व्याख्याः उपर्युक्त सभी कथन सत्य हैं।

इसकाल में शिल्पी और वाणिक दोनों अपने-अपने प्रमुखों के नेतृत्व में श्रेणियाँ बनाकर संगठित हो गए थे। इस काल की अठारह श्रेणियों का उल्लेख मिलता है, लेकिन विशेष रूप में उल्लेख केवल लुहारों, बढ़इयों, चर्मकारों और रंगकारों की श्रेणियों का हुआ है।

वाराणसी इस काल का महान व्यापार-केंद्र था। व्यापार मार्ग श्रावस्ती से पूर्व और दक्षिण की ओर निकलकर कपिलवस्तु और कुशीनगर होते हुए वाराणसी तक गया था।
इस काल में सबसे पहले धातु के सिक्कों का चलन आरंभ हुआ था। आरंभ में ये मुख्यतः सिक्के चांदी के होते थे।

प्रश्न 3:- छठी सदी ईसा-पूर्व के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा असत्य है?
A) किसान अपनी उपज का छठा भाग कर के रूप में चुकाते थे।
B) पालि ग्रंथों में गाँव तीन प्रकार के बताए गए हैं।
C) ‘भोजक’ गाँव का मुखिया कहलाता था।
D) ‘शतमान’ इस काल का प्रसिद्ध ग्रंथ है।

उत्तरः (d)
व्याख्याः

वैदिकग्रंथों में आए शतमान और निष्क शब्द मुद्रा के नाम माने जाते हैं। अतः कथन (d) असत्य है, जबकि अन्य तीनों कथन सत्य हैं।

पालि ग्रंथों में गाँव के तीन प्रकार बताए गए हैं-पहले प्रकार में सामान्य गाँव है जिनमें विविध वर्णों और जातियों का निवास रहता था। ऐसे गाँवों की संख्या सबसे अधिक थी। दूसरे, प्रकार में उपनगरीय गाँव थे जिन्हें शिल्पी-ग्राम कहते थे, ये गाँवों को नगरों से जोड़ते थे। तीसरे प्रकार में सीमांत ग्राम आते थे, जो जंगल से संलग्न देहातों की सीमा पर बसे थे।
‘भोजक’ पहले प्रकार के गाँव का मुखिया कहलाता था।
किसान अपनी उपज का छठा भाग कर या राजांश के रूप में देते थे। कर की वसूली सीधे राजा के कर्मचारी करते थे।

प्रश्न 4:- सूची-I को सूची-II से सुमेलित कीजिये तथा नीचे दिये गए कूट से सही उत्तर चुनियेः
सूची-I(पद) सूची-II(समाज में स्थिति)
A. भोजक 1. उच्च कोटि के अधिकारी
B. गहपति 2. भंडारगृह का अध्यक्ष
C. महामात्र 3. गाँव का मुखिया
D. भांडागारिक 4. धनी किसान
कूटः
A B C D
A)
3 4 1 2
B)
3 1 4 2
C)
4 3 1 2
D)
2 1 3 4

उत्तरः (a)
व्याख्याः विकल्प में दिये गए पद नाम एवं उनकी समाज में #स्थिति का सुमेलन निम्नानुसार हैं:
सूची-I (पद) सूची-II (समाज में स्थिति)
A. भोजक 1. गाँव का मुखिया
B. गहपति 2. धनी किसान
C. महामात्र 3. उच्च कोटि के अधिकारी
D. भांडागारिक 4. भंडारगृह का अध्यक्ष

प्रश्न 5:- छठी सदी ईसा-पूर्व अधिकारी वर्ग के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?

  1. ‘महामात्र’ इस काल में उच्च कोटि के अधिकारी होते थे।
  2. ‘शुल्काध्यक्ष’ इस काल में कर वसूल करते थे।
  3. ‘बलिसाधक’ चुंगी वसूल करने वाले अधिकारी होते थे।
    नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनियेः
    A) केवल 1 और 2
    B) केवल 1
    C) केवल 2 और 3
    D) 1, 2 और 3

उत्तरः (b)
व्याख्याः
इस काल में ‘#महामात्र’ उच्च कोटि के अधिकारी कहलाते थे। वे कई तरह के कार्य करते थे, जैसे-मंत्री, सेनानायक, न्यायाधिकारी आदि। अतः कथन (1) सत्य है।
शौल्किक या शुल्काध्यक्ष चुंगी वसूल करने वाला अधिकारी होता था वह व्यापारियों से उनके माल पर चुंगी वसूल करता था, अतः कथन (2) असत्य है।
बलिसाधक वे अधिकारी होते थे जो किसानों से फसल का अनिवार्य रूप से देय हिस्सा वसूलते थे। अतः कथन (3) असत्य है।

प्रश्न 6:- प्रश्ननिम्नलिखित में से किसे ‘गहपति’ कहा जाता था।
A) महालेखाकार
B) कबीले का प्रधान
C) धनी किसान
D) कर अधिकारी

उत्तरः (c)
व्याख्याः
‘#गहपति’ एक पालि शब्द है जो धनी किसान के लिये प्रयोग होता था। ये लोग वैश्यों की श्रेणी में आते थे।

प्रश्न 7:- बुद्धकाल के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. महात्मा बुद्ध ब्राह्मणों, क्षत्रियों की सभा के साथ-साथ शूद्रों की सभा में भी जाते थे।
  2. ‘दीघनिकाय’ प्राचीन बौद्ध पालिग्रंथ है।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?
    A) केवल 1
    B) केवल 2
    C) 1 और 2 दोनों
    D) न तो 1 और न ही 2

उत्तरः (b)
व्याख्याः

गौतम बुद्ध ब्राह्मणों, क्षत्रियों और गृहपतियों की सभा में गए, परंतु शूद्रों की सभा में उनके जाने का कोई उल्लेख नहीं मिलता है।अतःकथन (1)असत्य है|

दीघनिकाय प्राचीन बौद्ध पालिग्रंथ है।अतः कथन (2)सत्य है|

प्रश्न 8:- बुद्ध के काल में व्यापार के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. इस काल में शिल्पी और वणिक दोनों अपने-अपने नगरों में नियत स्थान पर रहते थे।
  2. इस काल में व्यापार मुख्यतः मुद्रा के माध्यम से होता था।
  3. वणिक व्यापार के लिये मथुरा होते हुए उत्तर की ओर तक्षशिला तक जाते थे।
  4. वे मथुरा से दक्षिण और पश्चिम की ओर होते हुए उज्जैन और गुजरात के समुद्रतटीय प्रदेश तक जाते थे।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-से सत्य हैं?
    A) केवल 1 और 2
    B) केवल 2 और 4
    C) केवल 1, 2 और 3
    D) 1, 2, 3 और 4

उत्तरः (d)
व्याख्याः उपर्युक्त सभी कथन सत्य हैं।

शिल्पी और वणिक दोनों अपने-अपने प्रमुखों के नेतृत्व में श्रेणियाँ बनाकर संगठित थे। दोनों नगरों में अपने-अपने नियत भागों में रहते थे। वाराणसी में वेस्स या वणिक लोगों की गली बनी हुई थी।

इस काल में व्यापार मुख्यतः मुद्रा द्वारा होता था। पालि ग्रंथों से मुद्रा के प्रचलन का संकेत मिलता है और यह भी पता चलता है वेतन और मूल्य का भुगतान सिक्कों में किया जाता था।
बुद्ध काल में वणिक व्यापार के लिए मगध से मथुरा होते हुए उत्तर की ओर बढ़ते-बढ़ते तक्षशिला तक पहुँच जाते थे।
वणिक मथुरा से दक्षिण और पश्चिम की ओर बढ़ते-बढ़ते उज्जैन और गुजरात के समुद्रतटीय प्रदेश तक पहुँच जाते थे।

प्रश्न 9:- ईसा-पूर्व छठी सदी के गाँवों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. पालि ग्रंथों में गाँवों के तीन प्रकार बताए गए हैं।
  2. शिल्पी-ग्राम तृतीय प्रकार के गाँव को कहते थे।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?
    A) केवल 1
    B) केवल 2
    C) 1 और 2 दोनों
    D) न तो 1 और न ही 2

उत्तरः (a)
व्याख्याः

पालिग्रंथों में गाँव के तीन भेद किये गए हैं। अतः कथन (1) सत्य है।

प्रथम कोटि में सामान्य गाँव है जिनमें विविध वर्णों और जातियों का निवास होता था।द्वितीय कोटि में उपनगरीय गाँव थे जिन्हें शिल्पी-ग्राम कह सकते हैं, अतः कथन (2) असत्य है।
उल्लेखनीय है कि तृतीय कोटि में सीमांत ग्राम आते हैं, जो जंगल से संलग्न देहातों की सीमा पर बसे होते थे।

प्रश्न 10:- ईसा-पूर्व छठी सदी में कर के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. करों का निर्धारण और वसूली गाँव के मुखिया की सहायता से राजा के कर्मचारी करते थे।
  2. गणतांत्रिक राज्यों में राजस्व पाने का अधिकार गण के प्रत्येक प्रधान का होता था।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?
    A) केवल 1
    B) केवल 2
    C) 1 और 2 दोनों
    D) न तो 1 और न ही 2

उत्तरः (c)
व्याख्याः उपर्युक्त दोनों कथन सत्य हैं।

राजा किसानों की उपज का छठा हिस्सा कर के रूप में लेता था। इसका निर्धारण और वसूली गाँव के मुखिया की सहायता से राजा के कर्मचारी करते थे।

गणतंत्र में राजस्व पाने का अधिकार गण या गोत्र का प्रत्येक प्रधान का होता था जो राजन् कहलाता था। राजतंत्र में एकमात्र राजा राजस्व पाने का अधिकारी होता था।

प्रश्न 11:- ईसा-पूर्व छठी सदी में विधि व्यवस्था के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. भारतीय विधि और न्याय-व्यवस्था का उद्भव इस काल में हुआ।
  2. वर्णभेद के आधार पर ही व्यवहार-विधि और दंड-विधि निर्धारित हुई।
    उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सत्य है/हैं?
    A) केवल 1
    B) केवल 2
    C) 1 और 2 दोनों
    D) न तो 1 और न ही 2

उत्तरः (c)
व्याख्याः उपर्युक्त दोनों कथन सत्य हैं।

भारतीय विधि और न्याय-व्यवस्था का उद्भव इसी काल में हुआ। पहले कबायली कानून चलते थे, जिसमें वर्ण-भेद को कोई स्थान नहीं था।

धर्मसूत्रों में हर वर्ण के लिये अपने-अपने कर्त्तव्य तय कर दिये गए और वर्णभेद के आधार पर ही व्यवहार-विधि (सिविल लॉ) और दंडविधि (क्रिमिनल लॉ) तय हुई।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *