सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिये उत्तर कैसे लिखें? || IAS TIPS, IAS Mains Strategy, How to write in IAS Mains Exam

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिये उत्तर कैसे लिखें IAS TIPS, IAS Mains Strategy, How to write in IAS Mains Exam

IAS TIPS, IAS Mains Strategy, How to write in IAS Mains Exam

सिविल_सेवा_मुख्य_परीक्षा_के_लिये_उत्तर_कैसे_लिखें?

इस लेख में हम आपको यह बताएंगे कि सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में उत्तर लेखन (Answer Writing) का क्या महत्व है। एक सटीक उत्तर कैसे लिखा जाए, जिससे हम परीक्षा में अधिक से अधिक अंक प्राप्त कर सकें। यहां हम जो भी युक्तिया व निर्देश दे रहें हैं, वे सब इस परीक्षा में टापर रहे अभ्यर्थियों, शिक्षकों व वरिष्ठ सेवाओं में रहे अधिकारियों के अनुभव के अनुसार हैं।

प्रथम_चरण_निबंध_लेखन

प्रारंभ में अभ्यर्थी निबंध लिखने में सहज नही होते हैं, इसी के कारण अपने प्रयास में असफल भी हो जाते हैं। इस पेपर के लिये यह आवश्यक है कि हमें निबंध लिखते समय विषय से संबंधित उपयुक्त जानकारी व विश्लेषण देना है, इसलिये निबंध लिखते समय क्या होना चाहिये और क्या नहीं होना चाहिये, यह जानना जरूरी है।
निबंध के महत्व को देखते हुये हमें निबंध प्रमुख अंग जैसे निबंध के विषयों का परिचय, उसका निष्कर्ष, विचारों के प्रवाह तथा उदाहरणों पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिये। इसके लिये आप निबंध लेखन अभ्यास कर सकते हैं, उदाहरण के लिये एक अच्छा निबंध लिखते समय हमें निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिये।
निबंध के शुरुआत मे परिचय के ठीक बाद से हमें उस विषय पर अपना स्टैंड स्पष्ट करना चाहिए। निबंध में जितना संभव हो सके विषय से जुड़े आयामों को कवर करना चाहिए और प्रति अनुच्छेद के लिये आपके पास एक उचित विचार होना चाहिए। निबंध में दिये जाने वाले विचार, उदाहरण व विशलेषण जितना संभव हो उतने आसान होने चाहिए। मतलब यह कि, बच्चे भी आपके निबंध को समझ सकें। अधिकतर उम्मीदवारों के निबंधों में आवश्यकता से अधिक व असंगत स्पष्टीकरण होने के कारण वो उसे को जटिल बना देते हैं, जो कभी भी अच्छे अंक नहीं देता है।

उत्तर_लेखन_के_विभिन्न_चरण

• कुशलता से व निर्धारित समय पर निबंध लिखने के लिये निबंधों से उन विषयों का चयन करें जो आपके लिये सबसे अधिक अनुकूल व सुरक्षित हो।
• इस आधार पर निबंध का चयन न करें, कि किस विषय पर कम या किस विषय के लिये अधिक लिखने की आवश्यकता होगी।
• आपके निबंध में आपके स्टैंड का समर्थन करने वाले तर्क होने चाहिए, इसमें आपके स्टैंड के खिलाफ कुछ आलोचनाएं शामिल हों, कुछ सकारात्मक तथा आशावादी तरीके तथा चीजें कैसे बेहतर हो सकती हैं इत्यादि का उल्लेख होना चाहिये।

मुख्य_Main_Exam_परीक्षा_के_लिये_उत्तर_लेखन

यहां हम यूपीएससी के उन टापर्स द्वारा सुझाई गई तकनीक के बारे में चर्चा करेंगे, जिन्होंने सिविल सेवा परीक्षा के तीनों चरणों में सफलता प्राप्त की है।
इस प्रकार के अनुभव के प्रयोग से आप यह जानेंगे कि सिविल सेवा परीक्षा में प्रभावशाली और सुव्यवस्थित उत्तर कैसे लिखें जिससे आप उच्चकोटि के अंक प्राप्त कर सकें। अभ्यर्थियों को उत्तर लिखने के दृष्टिकोण में किए जाने वाले कुछ बदलाव व अंकदायी सुझाव यहां दिए जा रहे हैं, हमें आशा है कि इसने आपको आंसर राइटिंग में मदद मिलेगी।

बिंदुओं_व_पैराग्राफ_में_लिखें

परिचय (Introduction): प्रश्न में पूछे गये विषय से मुख्य शब्द लें और उसे परिचय भाग के अंतर्गत समझाएं।

शीर्षक_व_भूमिका (Headings – हेडिंग्स): उत्तर के प्रारंभ में ऐसे वाक्यों का प्रयोग करना चाहिये जो भूमिका की आवश्यकता को पूर्ण कर दें। प्रश्न यदि किसी मुद्दे पर आधारित है तो कुछ (२-३) पंक्तियों में उसका निष्कर्ष भी लिखा जा सकता है, लेकिन यह ध्यान रहे कि तथ्यात्मक प्रश्नों के लिये किसी विशेष निष्कर्ष की आवश्यकता नहीं होती है।
यह भी ध्यान दें, कि आपके उत्तरों मे जानकारी प्वाइंट्स तक सीमित नही होना चाहिये, बल्कि हेडिंग्स (शीर्षक) का भी प्रयोग करना चाहिये। विषयों व टापिकों के उत्तर देते समय शीर्षकों के उपयोग से आप अपने उत्तरों को अलग-अलग भागों में सुव्यवस्थित रूप से दे सकते हैं। यदि किसी प्रश्न के उत्तर के लिये कई अलग-अलग तथ्यों व बिन्दुओं को रखना आवश्यक है तो उसके लिये आप बिन्दुओं का प्रयोग अवश्य कर सकते हैं।
शीर्षकों, उप-शीर्षकों, महत्वपूर्ण बिंदुओं व व्यक्तिगत विषलेशण (यदि आवश्यक है तो) पर आधारित उत्तर आपको इस परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद करेंगे।

रेखाचित्रों_का_प्रयोग: आरेख/चित्र (Diagrams) प्रश्नों के उत्तर के लिये आरेखों का बहुत महत्त्व होता है, जैसे कि भूगोल या अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के लिए भारत और विश्व के मानचित्र इत्यादि। इसके अलावा एनसीईआरटी किताबों से जिओग्राफी के लिए चित्र तैयार किए जाने का अभ्यास करें। भूगोल के पेपर -1 में कई प्रकार के भौगोलिक विषयों पर प्रश्न आते हैं और आरेख इत्यादि के माध्यम से आप एक अच्छा उत्तर बना सकते हैं।

नोट: निबंध के प्रश्नों तथा कुछ विश्लेषणात्मक प्रश्नों के लिये इस प्रवृत्ति से बचना चाहिये।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *